Skip to main content

गणित सार संग्रह के लेखक कौन हैं | Ganit Sar Sangrah Ke Lekhak

गणित सार संग्रह के लेखक कौन हैं | Ganit Sar Sangrah Ke Lekhak

जानेगे ganit sar sangrah ke lekhak का नाम। यहाँ पर हम आपको गणित सार संग्रह कब लिखा गया, गणित सार संग्रह में क्या क्या लिखा है इसके बारे में भी बताने वाले है। ये पोस्ट्स आपको बहुत उपयोगी साबित होने वाली है, इसे पूरी पढ़े।

गणित सार संग्रह के लेखक :- महावीराचार्य

गणित सार संग्रह के लेखक "महावीराचार्य" है। गणित सार संग्रह गणित विद्या के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। गणित सार संग्रह 9वीं सदी में लिखा गया था, जीसमे व्यावहारिक गणित प्रश्नों कैसे हल करे इसके बारे में बताया गया है। गणित सार संग्रह में लघुत्तम समापवर्त्य निकालने का तरीका और चतुर्भुज का क्षेत्रफल निकालने के बारे में भी बताया है। 9वीं में महावीराचार्य लिखित गणित सार संग्रह बहुत प्रसिद्ध हुआ था।

महावीराचार्य कौन थे

महावीराचार्य एक ज्योतिषविद् और गणितज्ञ थे, जो भारत देश में प्रसिद्ध थे। महावीराचार्य प्राचीन भारत के गुलबर्ग में रहते थे और जैन धर्म को follow करते थे। 9वीं सदी में महावीराचार्य पुरे भारत देश में गणितज्ञ रूप से प्रसिद्ध थे। महावीराचार्य ने बीजगणित की काफी समस्या को हल किया है। आज उनके बताये गए सूत्र भारतीय गणितज्ञों में उपयोग किया जाता है। महावीराचार्य कही समीकरणों का हल और गणित हल करने के लिए कही सूत्रों को बताया है।

संबंधित लेख जरूर पढ़ें

- कलम का सिपाही के लेखक कौन है
- माय पैसेज फ्रॉम इंडिया के लेखक कौन है
- न्यू इंडिया पुस्तक के लेखक कौन है
- भारत भारती के लेखक कौन है
- चिंतामणि के लेखक कौन है

Comments