Skip to main content

कामायनी के लेखक कौन है | Kamayani Ke Lekhak Kaun Hai

कामायनी के लेखक कौन है | Kamayani Ke Lekhak Kaun Hai

जानेगे kamayani ke lekhak kaun hai और कामायनी में क्या क्या लिखा गया है इसके बारे में भी जानकारी हासिल करेंगे जो आपके लिए बहुत उपयोगी साबित होगी।

कामायनी के लेखक :- जयशंकर प्रसाद

कामायनी के लेखक "जयशंकर प्रसाद" है। कामायनी एक महाकाव्य है, जो हिंदी भाषा में लिखा गया है। जयशंकर प्रसाद के कामायनी महाकाव्य में आनंद, चिंता, आशा, श्रद्धा, काम, वासना, लज्जा, कर्म, इर्षा, इड़ा, स्वप्न, संघर्ष, निर्वेद, दर्शन, रहस्य, आनद एन विषयों पर काव्य लिखे है। 19 दशक के प्रारम्भ में इसे जयशंकर प्रसाद ने इसका लेखन start किया था और अंतिम काव्य रचना 1936 ई. में प्रकाशित की गयी. उत्तर भारत में कामायनी महाकाव्य को काफी लोग पसंद करते है।

जयशंकर प्रसाद कौन थे

जयशंकर प्रसाद का पूरा नाम महाकवि जयशंकर प्रसाद है। जयशंकर प्रसाद भारत देश के हिन्दी नाट्य जगत्, हिन्दी कवि, कहानीकार और कथा साहित्य एक प्रमुख लेखक है। जयशंकर प्रसाद का जन्म 30 जनवरी, 1889 में भारत देश के उत्तर प्रदेश राज्य के वाराणसी में हुआ। हिंदी के अलावा ब्रजभाषा, खड़ी बोली में भी जयशंकर प्रसाद ने लेखन किया है। हिन्दी साहित्य में जयशंकर प्रसाद का बहुमूल्य योगदान रहा है।

जयशंकर प्रसाद जी ने कामायनी महाकाव्य के अलावा चित्राधार, कंकाल, ध्रुवस्वामिनी, तितली, लहर, झरना, एक घूँट, विशाख, अजातशत्रु आदि का भी लेखन किया है। जयशंकर प्रसाद अभी तक की रचनाएँ पुरे भारत देश में प्रसिद्ध है। 15 नवम्बर, 1937 जयशंकर प्रसाद वाराणसी, उत्तर प्रदेश मृत्यु हो गए, कम उम्र में ही जयशंकर प्रसाद की मृत्यु हो गयी थी, लेकीन जयशंकर प्रसाद अभी इनके साहित्य लेखन के कारन याद किया जाता है।

संबंधित लेख जरूर पढ़ें

- वंदे मातरम के लेखक कौन है 
- हिन्द स्वराज नामक पुस्तक के लेखक कौन है
- बीजक के लेखक कौन हैं
- इंडिका के लेखक कौन है
- चिंतामणि के लेखक कौन है

Comments